कार्बन उत्सर्जन में वृद्धि से चेन्नई में बहुत अधिक बारिश होने की आशंका



      जलवायु परिवर्तन के जोखिम के कारण भारत में दूसरी सर्वाधिक मृत्यु दर है। भविष्य में भी इस स्थिति के, खासकर जो चेन्नई सहित तटीय क्षेत्रों में रहते हैं, बेहतर होने की अधिक संभावना नहीं है। चेन्नई के भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) के शोधकर्ताओं द्वारा किया गया एक मौडेलिंग अध्ययन भविष्य में असहज कर देने वाले जलवायु परिवर्तन संबंधित परिदृश्यों की ओर इंगित करता है।



Source link

Share and Enjoy !

0Shares
0 0
Close