निपाह वायरस का खौफ : श्मशान कर्मचारियों ने अंतिम संस्कार करने से ही किया इनकार

नई दिल्ली/ कोझिकोड : केरल के कोझिकोड और मलप्पुरम में निपाह वायरस से मरने वालों की संख्या 10 तक पहुंच गई है. इस बीच एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है. उत्तरी केरल में निपाह वायरस फैलने के डर से कोझिकोड जिले में श्मशान गृह में शव का अंतिम संस्कार करने से इनकार करने का मामला सामने आया है. मीडिया रिपोर्टस के अनुसार शवदाह गृह के कर्मचारियों ने निपाह वायरस के संक्रमण में आने के बाद जिंदगी की जंग हारने वाले अशोकन (52) का अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया. आपको बता दें कि निपाह वायरस से ग्रस्त अशोकन की मौत मंगलवार को हो गई.

वायरस फैलने के खतरा
अशोकन के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार करने के लिए उनके रिश्तेदार सबसे पहले मावोर रोड स्थित इलेक्ट्रिक श्मशान गृह पर ले गए, लेकिन यहां पर उनका अंतिम संस्कार मशीन में खराबी होने के कारण नहीं हो सका. इसके बाद अशोकन के रिश्तेदार उनका शव पास में स्थित परंपरागत श्मशान गृह लेकर पहुंचे. यहां पर श्मशान के कर्मचारियों ने निपाह वायरस फैलने के खतरे से अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया. अंत में 7 घंटे बाद अशोकन के शव का पालक्कड़ में मोबाइल शवदाह गृह में अंतिम संस्कार किया गया.

ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी
यह मामला मीडिया में आने के बाद डिस्ट्रिक एडमिनिस्ट्रेशन कहा कहना है कि हम ऐसे लोगों पर नजर रख रहे हैं जो संकट की इस घड़ी में साथ नहीं दे रहे हैं. कोझिकोड के जिलाधिकारी यूवी जोशी ने बताया कि कुछ मामले जानकारी में आए हैं. ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. दूसरी तरफ स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों ने बताया कि दो अन्य लोगों के वायरस की चपेट में आने का संदेह है. उनकी मौत हो गई है. हालांकि अभी इस बात की पुष्टि नहीं की जा सकी है कि क्या उनकी मौत निपाह के कारण हुई.

सूत्रों ने बताया कि मूसा की हालत बेहद गंभीर है और वह वेंटिलेटर पर है जबकि अन्य व्यक्ति का निपाह के लिए इलाज चल रहा है. मूसा के दो बेटों की पहले मौत हो चुकी है. परिवार की एक अन्य महिला की भी वायरस के कारण मौत हो चुकी है. सूत्रों ने बताया कि कुछ संक्रमित लोगों के संपर्क में आए कुल 116 लोगों को अलग-अलग रखा गया है. इनमें से 94 लोगों को उनके घरों में तथा 22 को विभिन्न अस्पतालों में रखा गया है.

मल्ल्पुरम के 21 वर्षीय छात्र को तिरुवनंतपुरम मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है. वह हाल ही में कोझिकोड में अपने गृहनगर गया था. वायनाड़ में एक व्यक्ति का इलाज चल रहा है. केरल की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने बताया कि निपाह वायरस के कारण 10 लोगों की मौत हो चुकी है. उन्होंने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को केरल में वायरस फैलने के बारे में सूचित किया गया है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने कहा कि केंद्र इस समस्या से निपटने के लिए राज्य को हरसंभव सहायता देने के लिए कहा है.zeenews

Close