पीरियड्स में आ रहे हैं बदलाव, हो सकती हैं ये बीमारियां

नई दिल्ली. पीरियड्स के वैसे तो एक नेचुरल प्रोसेस है। लेकिन, इसमें कई बार शरीर में ऐसे परिवर्तन आते हैं जो स्वास्थ समस्याओं के संकेत देते है। ऐसे में पीरियड्स के दौरान यदि आपके शरीर में भी कोई ऐसे लक्षण या संकेत दिखता है, तो आपका सतर्क हो जाना चाहिए। इसमें सबसे जरूरी है पीरियड्स में जरूरत से ज्यादा खून बहना।

फिब्रोइड ट्यूमर का संकेत 
पीरियड्स में अगर जरूरत से ज्यादा ब्लीडिंग हो रही है तो यह फिब्रोइड ट्यूमर का संकेत हो सकता है। यदि दो या उससे अधिक चक्रों तक ज्यादा खून बहता है, तो आपको तुरंत डॉक्टर की सलाह लेकर ट्रीटमेंट कराना चाहिए। वहीं, बहुत हल्की ब्लीडिंग वैसे तो हानीकारक नहीं मानी जाती। लेकिन यदि ये ज्यादा दिन तक चल रही है तो यह थायराइड विकार या गर्भाशय में एक स्क्रेड टिश्यू का संकेत हो सकता है।

Periods

अनियमित पीरियड्स पॉलीसिस्टिक सिंड्रोम के संकेत
पीरियड्स कब शुरू हो जाए इसकी भविष्यवाणी करना बेहद मुश्किल है। लेकिन यदि पीरियड्स में ज्यादा अनियमितता है तो ये पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम या फिर थायरॉयड के संकेत है। इसके अलावा मूड स्विंग तनाव या अवसाद से संबंधित भी हो सकता है। लेकिन पीरियड्स मूड स्विंग का एक अहम कारण है। ऐसे आप अपने डॉक्टर के साथ इस समस्या के बारे में भी चर्चा कर सकती हैं।

Periods
पीरयड्स मिस होना प्रेग्नेंसी का संकेत नहीं
पीरियड्स नहीं होना यह वास्तव में एक खतरे का संकेत हो सकता है। ऐसा जरूरी नहीं कि पीरियड्स मिस होना प्रेग्नेंसी का संकेत हैं। यदि आप वजन कम कर चुके हैं और बहुत अधिक तनाव में हैं, तो यह आपको अण्डोत्सर्ग करने से रोक सकता है। इसके अलावा आपको पीरियड्स के दौरान ज्यादा ऐंठन है, तो आपको डॉक्टर से मिलने की आवश्यकता हैtimesnownews

Close