फायदे ही नहीं, ड्राइ फ्रूट खाने के ये नुकसान भी जानना आपके लिए जरूरी

नई दिल्ली : अभी तक आपने यही सुना होगा कि ड्राइ फ्रूट खाना सेहत के लिए फायदेमंद है, लेकिन इनको जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल करना आपके लिए हानिकारक भी हो सकता है. ड्राइ फ्रूट में पोषक तत्वों और ऊर्जा का भंडार होता है. इसे खाने से आपके चेहरे पर निखार आता है और शरीर को जरूरी पोषक तत्व मिलते हैं. लेकिन यदि आप इनका जरूरत से ज्यादा सेवन करते हैं तो यह आपकी सेहत पर विपरीत असर डाल सकते हैं. इसलिए जरूरी है कि ड्राइ फ्रूट को अपने डाइट चार्ट में शामिल करने से पहले आप न्यूट्रीशन की सलाह लें. खासकर जो लोग किडनी, हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल और डाइजेशन संबंधी बीमारी से पीड़ित हैं वे चिकित्सक की सलाह के बाद ही ड्राइ फ्रूट को अपने डाइट में शामिल करें.

फाइबर से भरपूर
ड्राइ फ्रूट में फाइबर की बहुत मात्रा होती है. फाइबर हमारे शरीर के लिए जरूरी भी है लेकिन जरूरत से ज्यादा फाइबर कंज्यूम करने पर पाचन तंत्र बिगड़ सकता है. ड्राइ फ्रूट की तासीर गर्म होती है इसलिए इसे भिगो कर खाए तो यह आपके लिए बेहतर होगा. अधिक ड्राइ फ्रूट खाने से कब्ज की समस्या हो सकती है. न्यूट्रीशन की माने तो एक दिन में 5 बादाम शरीर के लिए बहुत है. अगर आपको इसे ज्यादा कंज्यूम करना है तो धीरे-धीरे इसकी मात्रा बढ़ाएं.

तेजी से वजन बढ़ाता है
ड्राइ फ्रूट के सेवन से तेजी से वजन बढ़ता है. MayoClinic.com की रिसर्च के मुताबिक 3500 कैलरी कंज्यूम करने पर 1 पाउंड वजन बढ़ जाता है. डाइट चार्ट में ड्राइ फ्रूट शामिल करने पर आप 250 कैलरी ज्यादा कंज्यूम करने लगते हैं. इस हिसाब से एक महीने में 2 पाउंड वजन आसानी से बढ़ जाता है.

दांतों के लिए नुकसानदेह
ड्राइ फ्रूट में शुगर की मात्रा भी होती है जो फ्रुक्टोज फॉर्म में मौजूद रहता है. मार्केट में मिलने वाले ज्यादातर ड्राइ फ्रूट मॉइस्चर से बचाने के लिए शुगर कोटिंग में रखे जाते हैं. शुगर दांतों की सेहत के लिए ठीक नहीं है. खाने के बाद यह हमारी दांतों से लंबे समय के लिए चिपक जाता है और धीरे-धीरे दांतों को नुकसान पहुंचाता है. इसलिए जब कभी ड्राइ फ्रूट खाए तो अपने दांतों को बचाने के लिए ब्रश जरूर करें.

शुगर क्रैश से थकान महसूस होने लगती है
ड्राइ फ्रूट में Glycemic Index की ज्यादा मात्रा होती है.Glycemic Index का मतलब कार्बोहाइड्रेड की वह मात्रा जो ब्लड ग्लूकोज को बढ़ाती है. ड्राई फ्रूट्स ब्लड में ग्लूकोज की मात्रा को तेजी से बढ़ाता है जिससे तुरंत एनर्जी मिलती है लेकिन, कुछ देर में ही ब्लड शुगर लेवल गिर जाता है जिसे ‘शुगर क्रैश’ कहते हैं. ‘शुगर क्रैश’  की वजह से थकान महसूस होने लगती है.

अस्थमा मरीजों के लिए फायदेमंद नहीं
ड्राइ फ्रूट अस्थमा मरीजों के लिए फायदेमंद नहीं है. कीटाणु से बचाने और ड्राइ फ्रूटस को सुरक्षित रखने के लिए सल्फर डाई-ऑक्साइड का इस्तेमाल किया जाता है. सल्फर डाई-ऑक्साइड अस्थमा मरीजों के लिए ठीक नहीं है. ड्राइ फ्रूटस को सुरक्षित रखने में इसका इस्तेमाल जरूर होता है लेकिन यह केमिकल शरीर और पर्यावरण दोनों के लिए ठीक नहीं है.zeenews

Close