भारत में एचआईवी ग्रस्त 21.4 लाख लोगों में 40 प्रतिशत महिलाएं

नई दिल्ली: राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन (नाको) ने शुक्रवार को कहा कि भारत में 2017 में अनुमान के मुताबिक 21.4 लाख लोग एचआईवी से ग्रस्त थे, जिनमें करीब 40 प्रतिशत महिलाएं थीं. नाको ने कहा कि 2000 के बाद से एचआईवी संक्रमण के सालाना नए मामलों में 60 प्रतिशत से अधिक की कमी आई है, लेकिन 2010 और 2017 के बीच गिरावट की दर 27 प्रतिशत रही. जो संक्रमण के नए मामलों में 2020 तक 75 फीसदी कमी लाने के लक्ष्यपर पहुंचने के लिहाज से बहुत पीछे है. एचआईवी आकलन 2017 की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले साल एचआईवी के करीब 87580 नए मामले दर्ज किये गए और 69110 लोगों की एड्स की वजह से मृत्यु हो गई.

फैजाबाद में चार महिलाओं सहित 11 लोग HIV पीड़ित

पांच राज्यों में संक्रमण के मामलों में हुई बढ़ोतरी
पांच राज्यों को छोड़कर राष्ट्रीय स्तर पर नए संक्रमण के मामले कम हो रहे हैं. इन पांच राज्यों में अरुणाचल प्रदेश, असम, मिजोरम, मेघालय और उत्तराखंड हैं. इन राज्यों में 2010 की तुलना में पिछले साल इन मामलों में बढ़ोतरी हुई. आपको बता दें कि बीते माह संसद के एक पैनल ने स्वास्थ्य मंत्रालय से HIV संक्रमितों के लिए देश भर में एंटी-रेट्रोवायरल उपचार केंद्र स्थापित करने और इसे जोड़ने की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए आवश्यक कदम उठाने को कहा था. इसमें कहा गया था कि इससे एचआईवी प्रभावित मरीजों के इलाज के लिए ‘सस्ती और प्रभावकारी’ दवाएं उपलब्ध हो सकेंगी.

एचआईवी ने सिखाए स्वास्थ्य प्रणालियों में सुधार के तरीके

सस्ता एंटी-रेट्रोवायरल उपचार मुहैया कराने के लिए प्रणाली तैयार करने के आदेश
पैनल ने मंत्रालय से एचआईवी से प्रभावित गरीब लोगों, अनाथ एवं असहाय बच्चों के लिए सस्ती एंटी-रेट्रोवायरल उपचार मुहैया कराने के लिए एक प्रणाली तैयार करने को भी कहा था. स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय पर याचिकाओं संबंधी समिति ने संसद में पेश अपनी 56 वीं रिपोर्ट में कहा था कि मंत्रालय अपने कदमों के बारे में उसे तीन महीने के भीतर बताए. इसमें कहा गया था, ‘‘देश में एचआईवी संक्रमित मरीजों के लिए सस्ते उपचार की तत्काल आवश्यकता को देखते हुए समिति अपनी पिछली सिफारिश को दोहराती है और स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय से इसके नेटवर्क को मजबूत करने और सार्वजनिक-निजी भागीदारी से नए एंटी-रेट्रोवायरल उपचार केंद्र स्थापित करने की प्रक्रिया तेज करने के लिए आवश्यक कदम उठाने का आग्रह करती है.’’

पूरे देश में एंटी-रेट्रोवायरल उपचार केन्द्रों को जोड़ने की भी सलाह

भगत सिंह कोश्यारी की अध्यक्षता में पैनल ने एक तय समयसीमा के भीतर पूरे देश में एंटी-रेट्रोवायरल उपचार केन्द्रों को जोड़ने की भी सलाह दी है. समिति ने कहा कि वह एचआईवी से पीड़ित मरीजों के उपचार के लिए सस्ती और प्रभावकारी दवाएं सुगमता से उपलब्ध कराने के केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रयासों की सराहना करती है.

source : zeenews

About healthfortnight

Close