रखना है खुद को फिट तो ध्यान रखें ये टिप्स, 2 मिनट में जानें अच्छी सेहत की बातें

नई दिल्ली : क्या आप बीमार होना पसंद करते हैं,,,जी, बिल्कुल भी नहीं. हममें से कोई भी बीमार पड़ना नहीं चाहता है. अगर सर्दी-जुकाम भी हो जाए या फिर शरीर में कहीं भी जरा दर्द हो जाए तो हमें कितनी परेशानी होती है, इसका अंदाजा लगाया जा सकता है. और ऊपर से छोटी सी बीमारी में भी कितना खर्चा हो जाता है, सभी जानते हैं. पूरे महीने का बजट ही बिगड़ जाता है. इसलिए कहा जाता है कि सावधानी बरतें और दुर्घटना से बचें. ये भी सही है कि बीमारी को रोका भी नहीं जा सकता है. इसलिए बेहतर है कि खुद को हमेशा दुरुस्त रखें और एहतियात बरतें, ताकि बीमारियों से काफी हद तक बचा जा सके.

आज हमने अपना जीवन स्तर खुद ही इस तरह का कर लिया है कि हम बीमारियों को खुद ही निमंत्रण देने लगे हैं. खानपान, रहन-सहन, दिनचर्या, और जीवनशौली में आए बदलाव ने हर चलते-फिरते आदमी को एक बीमारी की दुकान बना दिया है. छोटे बच्चे से लेकर जवान तक को किसी ना किसी बीमारी से जूझते हुए देखा जा सकता है. इसलिए बेहतर होगा कि अपनी सेहत को लेकर भी हम हमेशा सचेत रहें. अपने आसपास ऐसा हेल्दी माहौल तैयार करें जिसमें बीमार होने की गुंजाइश कम से कम हो.

Image result for healthy zee news
हेल्दी खाना अच्छी सेहत के लिए बहुत जरूरी है

यहां हम कुछ ऐसी ही बातों पर चर्चा कर रहे हैं, जिन्हें अपना कर हम हेल्दी लाइफ जी सकते हैं-

साफ-सफाई का रखें ख्याल
बीमारी से बचने और उसे फैलने से रोकने का सबसे अच्छा तरीका है अपने हाथ धोना. भारत सरकार ने यूनिसेफ के साथ मिलकर हाथ धोने का अभियान भी चलाया हुआ है. गंदे हाथों पर कीटाणु होते हैं और जब हम गंदे हाथों से अपने शरीर के किसी हिस्से को साफ करते हैं तो तो सर्दी-ज़ुकाम और फ्लू जैसी बीमारियां आसानी से फैल जाती हैं. आसपास साफ-सफाई का ध्यान रखें. साफ-सफाई से निमोनिया और दस्त जैसी बीमारियों से बचा सकता है. यूनिसेफ के आंकड़े बताते हैं कि उल्टी-दस्त जैसी बीमारी से हर साल 5 वर्ष से कम उम्र के करीब 20 लाख बच्चों की मौत हो जाती है.

कहीं भी बाहर से घर आने के बाद, खाना खाने से पहले, खाना बनाने से पहले, बाथरूम के इस्तेमाल के बाद हाथों को साबुन से अच्छी तरह से साफ करना चाहिए. हाथों की सफाई से हम छोटी-मोटी बीमारियों को काबू कर सकते हैं. घर और काम की जगह की साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें. घर की रसोई और सोने का कमरा हवादार होना चाहिए.

खान-पान पर दें ध्यान
हम जो खाते हैं उसका तो सेहत पर असर पड़ता ही है. इसलिए आप क्या और कितना खाते हैं, यह बहुत मायने रखता है. भूख लगने पर ही खाएं और पेट भर कर ना खाएं. पेट में थोड़ी जगह हवा-पानी के लिए भी रखें. अच्छी सेहत के लिए पौष्टिक खाना खाएं. ज्यादा नमक, चिकनाई और ज्यादा मीठा खाने से बचें. बाहर के खाने से भी परहेज करें. मौसम के मुताबिक, फल-सब्जियां खाएं. खाने की थाली में प्रोटीन, विटामिन आदि की भरपूर मात्रा होनी चाहिए. खुले में रखी खाने-पीने की चीजों से दूरी बनाएं. खाने में दूध, दही, सलाद, फलों का इस्तेमाल करें.

योग और व्यायाम को दिनचर्या में शामिल करें
आज की जीवनशौली इस तरह की हो गई है जिसमें शरीर की मेहनत के काम लगभग खत्म हो गए हैं. विलासिता की चीजों के रोजाना अविष्कार हो रहे हैं. हमारे शरीर का ज्यादातर हिस्सा शायद ही रोजाना किसी काम में आता हो. इससे शरीर के जोड़ तथा नसों की बीमारियां तेजी से फैल रही हैं. लगातार बैठे रहने से पेट बीमारियों का घर बन रहा है. ऐसे में जरूरी है कि कुछ समय अपने शरीर के लिए निकाला जाए. योग और व्यायाम को अपने दैनिक जीवन में शामिल करें.

शरीर से इतना काम जरूर लें जिससे शरीर से पसीना निकले. पसीना बाहर आने से शरीर के अंदर के खराब तत्व बाहर निकलते हैं. खून का दौर बना रहता है. शरीर का हर हिस्सा काम करता है. अगर योग या कसरत नहीं कर पा रहे हैं तो कुछ समय कोई खेल के जरूर निकालें. zeenews

Close