लेजर ट्रीटमेंट से पायें स्वस्थ, दमकती त्वचा

अब हर कोई पा सकता है स्वस्थ और चमकदार त्वचा

रूखापन, धूप की जलन, नीरसता, काले घेरे, दाग-घब्बे, मुंहासे, या महीन झुर्रियाँ आदि त्वचा संबंधी अनेक समस्याओं से स्त्रियाँ कई दशकों से परेशान होती रही हैं। स्त्रियों ने घरलू नुस्खों से लेकर सौंदर्य उत्पादों तक क्या कुछ नहीं आजमाया, फिर भी उन्हें संतोषजनक नतीजे नहीं मिले।

लेजर पील के नाम से प्रचलित लेजरलाइट उपचार आजकल त्वचा संबंधी लगभग सभी समस्याओं के उपचार की सर्वश्रेष्ठ चिकित्सीय पद्धति है। त्वचा विशेषज्ञों/चिकित्सकों द्वारा व्यापक रूप से स्वीकृत इस पद्धति में प्रकाश की छोटी, संघनित किरणों का इस्तेमाल किया जाता है। ये किरणें त्वचा की गहराई में जाकर विभिन्न समस्याओं पर चोट करती हैं और सभी इसे आजमाने की सलाह देते हैं। इस प्रक्रिया में रौशनी की छोटी, केन्द्रित किरणों का इस्तेमाल किया जाता है। ये किरणें त्वचा की गहराई में जाकर त्वचा से संबंधित विभिन्न समस्याओं को न केवल सतही तौर पर बल्कि जड़ से समाप्त कर देती हैं।

इस ट्रीटमेंट के बारे में बताते हुये काॅस्मेटिक सर्जरी इंस्टीट्यूट, बांद्रा एवं बीच कैंडी हाॅस्पिटल्स के सीनियर काॅस्मेटिक सर्जन, डाॅ. मोहन थाॅमस ने कहा कि, ‘‘लेजर लाइट ट्रीटमेंट का असर फौरन नजर आता है और यह काफी सफल साबित हुई है। त्वचा से संबंधित कुछ उपचारों का परिणाम कई हफ्तों के बाद नजर आता है, वहीं लेजर लाइट ट्रीटमेंट के नतीजे आपके चेहरे पर तुरंत दिखाई देने लगते हैं।‘‘

लेजर लाइट उपचार डाॅक्टरों द्वारा आपकी त्वचा के विश्लेषण के साथ आरंभ हो जाता है। त्वचा के विश्लेषण के बाद डाॅक्टर यह तय करते हैं कि आपकी त्वचा के लिए उपचार की कितनी आवृति और ऊर्जा की जरूरत है। यह उपचार केवल एक योग्य स्किन डाॅक्टर द्वारा ही कराना चाहिये।

लेजर लाइट ट्रीटमेंट से पहले और बाद में इन 6 बातों का ख्याल रखें

  • अपनी त्वचा का विश्लेषण किसी स्किल डाॅक्टर से करायें
  • यदि आप त्वचा का कोई और उपचार करा रही हैं, तो लेजर करवाने से बचें
  • यदि आपने हाल ही में अपनी त्वचा का कोई मेडिकल उपचार कराया है, तो लेजर मत आजमायें। दो सप्ताह के अंतराल के बाद ही ट्रीटमेंट के लिये जायें।
  • किसी महत्वपूर्ण इवेंट से पहले लेजर ट्रीटमेंट कराने से बचें। कार्यक्रम और ट्रीटमेंट के बीच कम-से-कम एक सप्ताह का अंतराल रखें।
  • यदि आपकी त्वचा रूखी है कि लेजर करवाने से बचें। त्वचा को नमी दें और उसे सामान्य होने दें। उसके बाद ही लेजर कराने जायें।
  • लेजर के फौरन बाद पूल या वाटर टैंक में जाने से बचें। लेजर के बाद 4 दिनों तक धूप में नहीं निकलें।

 


Dr-Mohan-Thomas,-senior-cos
Dr Mohan Thomas

The Author Is A Senior Cosmetic Surgeon At Cosmetic Surgery Institute, Bandra and Breach Candy Hospital, Mumbai.

Dr. Mohan Thomas is a fully American Trained and Certified Cosmetic Surgeon now practicing in India. He is Chief Surgeon and Medical Director of The Cosmetic Surgery Institute Private Limited, Mumbai, India and Founder President of the Indian Society of Cosmetic Surgery and The Academy of Anti Ageing Medicine, Mumbai / New York.
He obtained his Medical degree from The Medical College of Pennsylvania, USA, with distinction. His Postdoctoral training was at several prestigious institutions such as The Mount Sinai Hospital Medical Center, New York and The Hahnemann University Hospital, Philadelphia. He then trained with the Masters in the various disciplines of Cosmetic Surgery.


 

About healthfortnight

Close