इस दांडी यात्रा का संदेश है आत्म-निर्भर भारत का निर्माण

    0
    14



    इस दांडी यात्रा का संदेश है आत्म-निर्भर भारत का निर्माण


    दांडी यात्रा में शामिल होने का अवसर मेरे लिए बहुत बड़ा सौभाग्य
    मुख्यमंत्री श्री चौहान दांडी यात्रा के दौरान छापरभाटा (गुजरात) में “आजादी का अमृत महोत्सव” कार्यक्रम में शामिल हुए
     


    भोपाल : गुरूवार, अप्रैल 1, 2021, 20:37 IST

    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आजादी के 75 वें वर्ष में आयोजित इस दांडी यात्रा का संदेश है, आत्म-निर्भर भारत का निर्माण तथा उसके लिए हम सब का संकल्पबद्ध होना। यह मेरा बहुत बड़ा सौभाग्य है, कि मुझे आज राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के दांडी नमक सत्याग्रह की स्मृति में आयोजित, इस दांडी यात्रा में शामिल होने का अवसर मिल रहा है।

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने देश को आजादी दिलाई, सरदार वल्लभभाई पटेल ने देश का एकीकरण किया और अब प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी आत्म-निर्भर भारत का नव-निर्माण कर रहे हैं। आज हम सब इस दांडी यात्रा के माध्यम से आत्म-निर्भर भारत के निर्माण का संकल्प लेते हैं।

    मुख्यमंत्री श्री चौहान आज दांडी यात्रा के दौरान, गुजरात के सूरत जिले के छापरभाटा गाँव में आयोजित आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम में शामिल हुए। इस अवसर पर गुजरात के वन एवं आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री रमण लाल पाटकर, सांसद श्रीमती दर्शना बेन आदि उपस्थित थे।

    नमक प्रतीक है वफादारी का, देशभक्ति का और आत्म-निर्भरता का

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 12 मार्च 1930 को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने साबरमती आश्रम से दांडी यात्रा नमक सत्याग्रह प्रारंभ किया था और 5 अप्रैल को दांडी नवसारी पहुँचकर एक मुट्ठी नमक उठाकर, अंग्रेज शासन द्वारा नमक पर लगाए गए प्रतिबंध को तोड़ दिया था। नमक प्रतीक है वफादारी का, देशभक्ति का तथा आज के संदर्भ में, यह प्रतीक है, आत्म-निर्भरता का। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि उस समय गांधी जी ने दांडी यात्रा के माध्यम से देश को आजाद करने का संकल्प लिया था, आज हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आयोजित दांडी यात्रा के माध्यम से हम संकल्प ले रहे हैं, आत्म-निर्भर भारत के निर्माण का।

    विश्व के हजार वर्ष के इतिहास में गांधी जैसा व्यक्तित्व नहीं हुआ

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि विश्व के एक हजार वर्ष के इतिहास में महात्मा गांधी जी जैसा व्यक्तित्व पैदा नहीं हुआ है, जिन्होंने अहिंसा के पथ पर चलकर देश को आजादी दिलवाई। हमें अंग्रेजों से आजादी आसानी से नहीं मिल गई। एक और गांधीजी का अहिंसक आंदोलन था, वहीं दूसरी ओर हजारों क्रांतिकारियों ने देश की स्वतंत्रता के लिए हँसते-हँसते अपने प्राण न्यौछावर कर दिए।

    आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के लिए तेजी से कार्य

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिस दिन प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने आत्म-निर्भर भारत के निर्माण की घोषणा की थी, उसी दिन से मध्यप्रदेश में आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण पर तेजी से कार्य हो रहा है। सबसे पहले राज्य में इसका विकास रोड मैप बनाया गया, अब उस पर तत्परता के साथ अमल किया जा रहा है। आत्म-निर्भर भारत, हमारे लिए मंत्र है। हम पूरी कर्त्तव्यनिष्ठा, मेहनत एवं समर्पण के साथ इसे चरितार्थ करेंगे।

    गुजरात ने देश को महान सपूत दिए

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गुजरात ने देश को महात्मा गांधी, वल्लभ भाई पटेल और श्री नरेंद्र मोदी जैसे महान सपूत दिए हैं।

    मध्यप्रदेश एवं गुजरात को दिलों से जोड़ती हैं ताप्ती और नर्मदा

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गुजरात यात्रा के दौरान आज प्रातः माँ नर्मदा एवं माँ ताप्ती का दर्शन एवं पूजन किया। दोनों नदियाँ मध्यप्रदेश से निकलती हैं, मध्यप्रदेश एवं गुजरात में प्रवाहित होती हैं और दोनों राज्यों को दिलों से जोड़ती हैं।


    पंकज मित्तल



    Source link

    Share and Enjoy !

    0Shares
    0 0

    NO COMMENTS