उपार्जन में नंबर वन आना सरकार और किसानों के लिए गौरव की बात है

    0
    143
    उपार्जन में नंबर वन आना सरकार और किसानों के लिए गौरव की बात है

    [ad_1]


    उपार्जन में नंबर वन आना सरकार और किसानों के लिए गौरव की बात है


    पहली बार कोई राज्य पंजाब से आगे निकला
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पूरी टीम को बैठक में दी बधाई
     


    भोपाल : मंगलवार, जून 9, 2020, 21:41 IST

    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि गेहूँ उर्पाजन में पूरे देश में नंबर वन आना सरकार और किसानों के लिये गौरव की बात है। कोरोना संकट के चलते इससे न केवल किसानों को बड़ी मदद मिली है अपितु प्रदेश की अर्थव्यवस्था भी गतिशील हुई है। प्रदेश में काफी कम समय में रिकार्ड मात्रा में गेहूँ का उपार्जन बड़ी उपलब्धि है। मध्यप्रदेश पहली बार गेहूँ उपार्जन में पंजाब से आगे निकला है। इसके लिए खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग सहित सभी संबंधित विभाग तथा पूरी टीम बधाई के पात्र हैं।

    मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में गेहूँ उपार्जन कार्य की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में गृह, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट, किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल तथा खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण सहकारिता मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण श्री शिवशेखर शुक्ला, प्रमुख सचिव जनसंपर्क श्री अनुपम राजन आदि उपस्थित थे। 

    पंजाब के सिस्टम का अध्ययन करें

    बैठक में बताया गया कि पंजाब में गेहूं उपार्जन का कार्य प्रायवेट आड़तियों के माध्यम से किया जाता है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि वहाँ के सिस्टम का विस्तृत अध्ययन किया जाए तथा वहाँ की बेस्ट प्रेक्टिसेस को अपनाया जाए।

    शेष गेहूँ का शीघ्र परिवहन करें

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि परिवहन से शेष गेहूँ का शीघ्र परिवहन कर उसे भंडार गृहों तक पहुंचाया जाए। बताया गया कि खरीदे गए गेहूँ की 95 प्रतिशत से अधिक मात्रा का परिवहन कर लिया गया है, शेष का जारी है। 

    छोटे किसान अधिक संख्या में आए

    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि इस बार उपार्जन की एक विशेषता यह भी रही कि गत वर्षों की तुलना में काफी अधिक संख्या में लघु एवं सीमांत किसानों ने समर्थन मूल्य पर अपना गेहूँ बेचा। उपार्जन के लिए पंजीकृत किसानों में से 15 लाख 72 हजार किसानों ने अपना गेहूँ बेचा, जिनमें 5 लाख 4 हजार सीमांत किसान एवं 3 लाख 8 हजार लघु किसान शामिल थे।

    अभी तक 127 लाख 81 हजार एम.टी. गेहूँ की खरीदी

    प्रमुख सचिव श्री शिवशेखर शुक्ला ने बताया कि गेहूँ उपार्जन में मध्यप्रदेश देश में पहले स्थान पर है। मध्यप्रदेश में अभी तक 127 लाख 81 हजार मीट्रिक टन गेहूँ का उपार्जन किया गया है। पंजाब दूसरे स्थान पर है, जहाँ अभी तक 127 लाख 67 हजार एम.टी. गेहूँ का उपार्जन हुआ है। देश के सभी राज्यों द्वारा कुल उपार्जित गेहूँ का लगभग 33.03 प्रतिशत मध्यप्रदेश में उपार्जन किया गया है। पिछले वर्ष मध्यप्रदेश में 73.69 लाख मीट्रिक टन गेहूँ का उपार्जन समर्थन मूल्य पर किया गया था।

    भेंट किया उपार्जन मोमेन्टो

    इस अवसर पर विभागीय मंत्री एवं अधिकारियों ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को गेहूँ उपार्जन संबंधी गतिविधियों एवं उपलब्धियों के छायाचित्रों का कोलाज मोमेन्टो के रूप में भेंट किया।


    पंकज मित्तल

    [ad_2]

    Source link

    Share and Enjoy !

    0Shares
    0 0