दिल के रोगों का खतरा 8 गुना हो जाएगा कम, बस ऐसा करें

    0
    1020

    जयपुर।

    विन्सकोंसिन विश्वविद्यालय, अमरीका के मुताबिक जो लोग वर्ष में एक या दो बार लंबी छुट्टियां लेते हैं, वे अधिक सक्रिय और खुश रहते हैं। ब्रिटिश शोध के अनुसार छुट्टियों के सपने संजोना, प्लानिंग करना भी बेहतरीन मूड बूस्टर हो सकता है।

    अगर छुट्टी मनाने, आराम करने या मौज-मस्ती करने जाते हैं तो आपको खुशी मिलती है। यह शरीर में स्ट्रेस हार्मोन कोर्टिसोल को कम करता है। लगातार व्यस्त रुटीन के बावजूद एक छोटा सा ब्रेक भी आपको ताजगी से भर देता है।

    छुट्टियों के दौरान लोग अधिक खुश रहते हैं। कई शोध साबित कर चुके हैं कि जितना ज्यादा हंसेंगे, मस्तिष्क से एंडोर्फिन हार्मोन का स्त्राव उतना ज्यादा होगा और रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होगी। कार्यक्षमता बढ़ेगी।

    अमरीका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हैल्थ के शोध के अनुसार काम के प्रेशर के बाद एक ब्रेक लेने से निर्णय लेने की क्षमता मजबूत होती है और कार्यक्षमता बढ़ जाती है।

    अगर छुट्टियों के दौरान गैजेट्स से दूर रहें तो दफ्तर के काम के लिए नई ऊर्जा आ जाती है। छुट्टियों के दौरान नकारात्मक चीजों से दूरी बनाएं और छोटी-छोटी चीजों में खुशियां तलाशें।

    आसपास की खूबसूरती, नए स्वाद और परिवेश का आनंद उठाएं। इससे नई ऊर्जा का संचार होगा। यही वजह है कि मन उदास होने पर या फिर मन की परेशानियों को दूर करने के लिए लोगों को घूमने की सलाह दी जाती है।

    Share and Enjoy !

    0Shares
    0 0