मरीज के फीडबैक के बाद सरकार देगी इलाज का पैसा

0
154

भिंड। राज्य बीमारी सहायता योजना को प्रभावी बनाने के लिए अब इसमें संशोधन किया गया है। इससे मरीजों को फायदा मिलेगा। नए संशोधन में योजना की प्रक्रिया ऑनलाइन रहेगी। आवेदन करने के बाद संबंधित अस्पताल में मरीज के लिए नाम पर समय सीमा में आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जाएगी। आवेदक सीएमएचओ कार्यालय में समस्त जानकारी जैसे समग्र आईडी, आधार संख्या आदि ऑनलाइन अपलोड कराएंगे। इसके लिए कोई चार्ज नहीं लिया जाएगा।

आमतौर पर किसी भी मरीज को अधिसूचित प्राइवेट अस्पताल में इलाज के लिए जिला मेडिकल बोर्ड व मेडिकल कॉलेज से एनओसी लेना पड़ती थी। नई व्यवस्था में एनओसी की बाध्यता खत्म कर दी गई है। मरीज को आवेदन करने के बाद जिला मेडिकल बोर्ड के समक्ष चिकित्सकीय जानकारी देना होगी। दरअसल कुछ अस्पताल इस योजना में शामिल होने के बाद मरीज को जरूरत के मुताबिक इलाज नहीं देकर राशि वसूली में लगे रहते थे। अब किस्त में राशि सीएमएचओ के डिजिटल साइन से जारी होगी। इससे राशि के दुरुपयोग की संभावना कम रहेगी।

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के मुताबिक योजना में बड़ा बदलाव निजी अस्पतालों के लिए पेड की जानी वाली राशि के संबंध में किया गया है। अब तक सरकार इन अस्पतालों को किसी भी बीमारी में एक मुश्त राशि देती थी। सीएमएचओ डॉ. जेपीएस कुशवाह के अनुसार नए नियमों के तहत ही मरीजों के आवेदन लिए जाएंगे।

अब तीन किस्तों में जारी होगी राशि

स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक पहली किस्त मरीज को जिला मेडिकल बोर्ड द्वारा स्कैन करने के बाद कुल खर्च 50 प्रतिशत, दूसरी किस्त 30 प्रतिशत जो संबंधित अस्पताल द्वारा मरीज को भर्ती ऑपरेट करने से डिस्चार्ज होने पर और तीसरी किस्त 20 प्रतिशत राशि मरीज द्वारा फीडबैक फार्म में हालत संतोषजनक बताने पर दी जाएगी।

10 दिन में मिलेगा लाभ

सीएमएचओ आवेदन पत्र का सत्यापन के बाद सिविल सर्जन द्वारा गठित बोर्ड के लिए ऑनलाइन भेजेंगे। 10 दिन में प्रकरण मंजूर होने या नहीं होने का कारण मरीज को बताया जाएगा। मंजूर होने पर मरीज को आवेदन से 15 दिन के अंदर उपचार व डिस्चार्ज करना होगा।

 

naidunia

Share and Enjoy !

0Shares
0 0