मां, बहन और बीवी को रखना है फिट तो ये डाइट फॉलो करवाएं

    0
    164

    नई दिल्ली: आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस है. आप सभी अपनी मां, बहन, बीवी, दोस्त को इस मौके पर शुभकामनाएं दे रहे होंगे. लेकिन, आपने उनकी सेहत पर कभी गौर किया है? घर में महिला की क्या भूमिका होती है इससे आप सभी वाकिफ होंगे. महिला काम करने वाली हो या गृहिणी हो, वह अकेले पूरे घर की देखभाल करती है. उन्हें हमेशा आपकी फिक्र होती है. जिम्मेदारियों को निभाते-निभाते महिलाएं इतनी लापरवाह हो जाती हैं कि उनकी सेहत बिगड़ जाती है. इसलिए इस महिला दिवस पर आप लोग खुद से वादा करें कि, आप अपनी मां, बहन, बीवी और दोस्त की सेहत का खयाल रखेंगे. इस लेख में हम आपको बताएंगे कि महिलाओं के लिए कौन-कौन से फल और फूड बहुत ज्यादा लाभकारी होते हैं.

    दही
    लो फैट दही में कैल्शियम और प्रोटीन की भरपूर मात्रा होती है. रिसर्च में पाया गया है कि लो फैट दही खाने से महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर और ओस्टियोपोरोसिस जैसी बीमारियों की संभावना कम हो जाती है. डॉक्टरों का कहना है कि लो फैट दही खाने से पेट में अल्सर और वेजाइनल इंफेक्शन की संभावनी भी काफी हद तक कम हो जाती है.

    मछली
    मछली में ओमेगा-3 फैटी एसिड की प्रचुर मात्रा होती है. ओमेगा एसिड महिलाओं के लिए बहुत फायदेमंद होता है. महिलाओं में ब्लड क्लॉटिंग की समस्या सामान्य बात है. ओमेगा एसिड ब्लड क्लॉटिंग की समस्या को कम करता है. ब्लड क्लॉटिंग की समस्या कम होने से गठिया रोग की संभावना घट जाती है.

    ओमेगा एसिड के कई और गुण होते हैं. इससे हाइपरटेंशन, डिप्रेशन, हार्ट संबंधी बीमारी में बचाव होता है. डॉक्टरों के मुताबिक गर्भवती महिलाओं के लिए मछली का सेवन करना बहुत फायदेमंद होता है. डॉक्टर तो गर्भवती महिलाओं को हफ्ते में 2-3 बार मछली खाने की सलाह देते हैं.

    बीन्स
    बीन्स में फैट और कोलेस्ट्रॉल की बहुत कम मात्रा होती है. साथ ही यह फाइबर और प्रोटीन का अच्छा स्रोत भी माना जाता है. मेनोपॉज के दौर में इसका सेवन महिलाओं के लिए बहुत जरूरी होता है. महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर की बहुत ज्यादा संभावना होती है. बीन्स महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर से दूर रखता है. महिलाओं को एक हफ्ते में 3-4 बार बीन्स का सेवन जरूर करना चाहिए.

    देसी घी
    सामान्य तौर पर घी को फैट का बहुत पड़ा स्रोत माना जाता है, लेकिन गाय का घी स्वास्थ के लिए बहुत फायदेमंद होता है. अगर संभव हो तो महिलाओं को गाय का घी जरूर सेवन करना चाहिए. देसी घी में कॉन्जुलेटेड लिनोलेक एसिड की भरपूर मात्रा होती है. यह महिलाओं को इंफेक्शन और मोटापे से दूर रखता है.

    पपीता
    पपीता में पोटैशियम और विटामिन सी की भरपूर मात्रा होती है. दोनों पोषक तत्व महिलाओं को ब्लड प्रेशर से दूर रखता है. महिलाओं में गॉल ब्लॉडर संबंधी समस्याएं बहुत तेजी से बढ़ रही है. पोटैशियम और विटामिन सी इन समस्याओं को दूर करता है. हालांकि गर्भवती महिलाओं पपीते का सेवना नहीं करना चाहिए.

    पालक
    पालक में पोषक तत्वों का भंडार होता है. महिलाओं को एक हप्ते में कम से कम 3 बार पालक का सेवन जरूर करना चाहिए. गर्भवती महिलाओं के पालक बहुत अच्छा आहार है. यह कोलोन कैंसर, दिल के रोग और डिमेंशिया जैसे मानसिक रोग से भी उन्हें दूर रखता है. यह एंटी एजिंग में मददगार है.zeenews

    Share and Enjoy !

    0Shares
    0 0