रोग प्रतिरोधक क्षमता के कारण कड़कनाथ की माँग बढ़ी

    0
    175
    रोग प्रतिरोधक क्षमता के कारण कड़कनाथ की माँग बढ़ी

    [ad_1]


    रोग प्रतिरोधक क्षमता के कारण कड़कनाथ की माँग बढ़ी


    शासन ने तैयार की कड़कनाथ पालन योजना, लाभान्वित होंगे 300 अजजा सदस्य 


    भोपाल : गुरूवार, नवम्बर 26, 2020, 15:54 IST

    कोरोना काल में प्रदेश के प्रसिद्ध कड़कनाथ की देश में बढ़ती माँग को देखते हुए राज्य शासन ने इसके उत्पादन और विक्रय को बढ़ाने के लिये विशेष योजना तैयार की है। इससे कुक्कुट पालकों की आय में भी इजाफा होगा। कड़कनाथ का शरीर, पंख, पैर, खून, मांस सभी काले रंग का होता है। रोग प्रतिरोधक क्षमता के साथ कम वसा, प्रोटीन से भरपूर, हृदय-श्वास ओर एनीमिक रोगी के लिए लाभकारी है। कड़कनाथ पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम के अधिकृत विक्रेता चिकन पार्लर पर लोगों के लिये उपलब्ध है।

    कड़कनाथ की विशेषताएँ

    तत्व

    कड़कनाथ

    अन्य प्रजातियाँ

    विकास का समय

    90-100 दिन

    40-45 दिन

    वजन

    1250 ग्राम/ 90-100 दिन

    2 कि.ग्रा./40-45 दिन

    क्रूड प्रोटीन

    25%-27%

    17%-18%

    कैलोरी

    2400-2500 कैलोरी

    3250-2800 कैलोरी

    फैट

    0.73 से 1.03 %

    13 से 25 %

    कोलेस्ट्राल

    184.75 मि.ग्रा./100 ग्राम

    218.12 मि.ग्रा.

    लिनोलिक एसिड

    24 %

    21 %

    बीमारियाँ

    कम संक्रामक

    अधिक संक्रामक बेक्टीरियल एवं वॉयरल बीमारियाँ

    पालन से लाभ

    ब्राण्डेड वेल्यू तथा नियमित आय के साथ अधिक दर पर विक्रय

    सामान्य वेल्यू तथा कम दरों पर विक्रय

    अपर मुख्य सचिव पशुपालन श्री जे. एन. कंसोटिया ने बताया कि कड़कनाथ कुक्कुट पालन को सहकारिता के माध्यम से बढ़ावा देने के लिये कड़कनाथ के मूल जिलों- झाबुआ, अलीराजपुर, बड़वानी और धार जिलों की पंजीकृत कड़कनाथ कुक्कुट पालन समितियों के अनुसूचित जनजाति के 300 सदस्यों को एन.एल.आर.एम. में प्रशिक्षण भी दिया गया है। झाबुआ जिले का चयन कड़कनाथ की मूल प्रजाति के लिये प्राप्त जी.आई. टेग के कारण किया गया है। योजना में 33 प्रतिशत महिलाओं को स्थान दिया गया है।

    हितग्राहियों को मिलेंगे 28 दिन के चूजे नि:शुल्क

    प्रत्येक चयनित हितग्राही को नि:शुल्क 28 दिन के वैक्सीनेटेड 100 चूजे, दवा, दाना-पानी का बरतन और प्रशिक्षण देने के साथ ही उनके निवास पर शेड भी बनाकर दिया जायेगा। राज्य पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम पालन-पोषण, प्रशिक्षण, मॉनिटरिंग, दवा प्रदाय और मार्केटिंग की व्यवस्था सुनिश्चित करेगा।


    सुनीता दुबे

    [ad_2]

    Source link

    Share and Enjoy !

    0Shares
    0 0

    Close