वैज्ञानिकों ने बनाया ऐसा बायोसेंसर जो पसीने से लेगा मेडिकल रीडिंग

    0
    164

    वाशिंगटन: वैज्ञानिकों ने एक नया सेंसर विकसित किया है जो त्वचा के एक छोटे हिस्से में पसीने की ग्रंथी को प्रेरित करता है और यह उस वक्त भी ‘मेडिकल रीडिंग’ कर सकता है , जब उपयोगकर्ता का पसीना नहीं निकलता है. गौरतलब है कि मानव के पसीने की जांच करने वाले मेडिकल सेंसर के लिए दिन भर पसीना निकलने की जरूरत होती है ताकि निरंतर स्वास्थ्य रीडिंग ली जा सके.
    अमेरिका में सिनसिनाटी विश्वविद्यालयों के शोधार्थियों ने एक उपकरण विकसित किया है जो ‘बैंड -एड’ के आकार का है. यह पसीना निकालने के लिए एक रसायनिक प्रेरक का उपयोग करता है और यह उस वक्त भी काम करता है जब रोगी या व्यक्ति शारीरिक रूप से सक्रिय नहीं होता.

    सेंसर यह भी अनुमान लगा सकता है कि बायोसेंसर माप में रोगी का पसीना किस तरह से हारमोन या रसायनों को समझने में एक अहम कारक है. विश्वविद्यालय के प्रोफेसर जेसन हेकनफेल्ड ने कहा, ‘‘हमारा लक्ष्य जरूरत के मुताबिक पसीना निकालने को प्रेरित करना था.’’

    Share and Enjoy !

    0Shares
    0 0