Three Yoga You Must Do At Home During Lockdown Due To Coronavirus

    0
    141

    [ad_1]

    लॉकडाउन की मियाद बढ़ा दी गई है और ऐसे में घर में आप बोर हो रहे होंगे. आज हम आपको तीन ऐसे योगासन के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे कर के आप फिट रहेंगे.

    नई दिल्ली: कोरोना वायरस को लेकर लॉकडाउन की मियाद अब बढ़ाकर तीन मई कर दी गई है. आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसकी घोषणा की. इसके बाद अब एक बार फिर लोगों को घरों में बंद रहना पड़ेगा. उन्हें अभी और कुछ दिन लॉकडाउन के नियमों का पालन करना पड़ेगा.

    हालांकि लोग घरों में रहते-रहते ऊब गए हैं और आलस भी बढ़ गया है. इस दौरान कई लोग जो योगा क्लास और जिम जाते थे उनका योगा क्लास और जिम दोनों बंद है.

    हम सबको पता है कि शारीरिक व्यायाम बहुत जरूरी होता है. व्यायाम के अन्य प्रकारों में योग का सबसे ज्यादा महत्व है. योग के विभिन्न आसनों द्वारा सांस पर नियंत्रण पाया जा सकता है.

    ऐसे में जब आप बाहर नहीं जा सकते तो क्यों न आप घर पर रहकर ही कुछ अलग-अलग तरह की योगा करें जिससे आपकी सेहत अच्छी रहे. आइए जानते हैं उन्हीं योगा के बारे में…

    भुजंगासन

    सबसे पहले जान लीजिए भुजंगासन के बारे में, शरीर का लचीलापन बनाए रखने और पेट की चर्बी घटाने में यह बहुत मदद करता है.इसको करने के लिए सबसे पहले आप पेट के बल लेट जाएं. इसके बाद हथेली को कंधे के सीध में रखें. दोनों पैरों के बीच में दूरी नहीं होनी चाहिए तथा पैर तने हुए होने चाहिए. इसके बाद सांस लें और शरीर के अगले भाग को ऊपर की ओर उठाए. आप इस अवस्था में कुछ देर रहें और फिर गहरी सांस छोड़ते हुए सामान्य अवस्था में आ जाएं.

    सुखासन

    सुखासन करने के लिए पैरों को पालथी मार कर बैठ जाएं और पीठ को बिल्कुल सीधा रखे. ध्यान रहें इस आसन को करते समय हाथों की मुद्रा का विशेष ख्याल रहे. इस आसन को करने से दिमाग की शक्ति बढ़ती है.

    ताड़ासन

    भुजंगासन और सुखासन के बाद आपको हम ताड़ासन के बारे में बताने जा रहे हैं. यह आसन करने से आपके पैरों में मजबूती आती है. इसको करने के लिए सबसे पहले पैर और कमर को सीधा करके योग मैट पर खड़े हो जाएं. इस दौरान एड़ियों को एक दूसरे से मिला कर रखें. अपने दोनों हाथों को बगल में सीधा रखें. अगले चरण में हथेलियों को आपस में फंसाकर ऊपर उठाएं. हथेलियों की दिशा आकाश की तरफ होनी चाहिए. अब धीरे-धीरे सांस लेते हुए, पंजों के बल खड़े होते हुए शरीर को ऊपर की ओर खीचें. जब शरीर पूरी तरह तन जाए तो इस मुद्रा में कुछ देर बने रहने की कोशिश करें. साथ ही सामान्य रूप से सांस लेते रहें. फिर सांस को धीरे-धीरे छोड़ते हुए प्रारंभिक अवस्था में आ जाएं. इस पूरी प्रक्रिया को लगभग 8 से 10 बार दोहराएं.

    [ad_2]

    Source link

    Share and Enjoy !

    0Shares
    0 0